कविता : ऐ हवा कभी तो मेरे दर से गुज़र

सोमवार, 7 दिसंबर 2009

कभी समंदर किनारे नर्म, ठंडी रेत पर बैठे हुए डूबते हुए सूरज को निहारना ....... और फ़िर यूँ लगे कि मन भी उसी के साथ हो लिया हो। इस दुनिया की उथल-पुथल से दूर, बहुत दूर और पा लेना कुछ सुकून भरे लम्हें ....... किसी पहाड़ी की चोटी पर बने मन्दिर की सीढियां पैदल चढ़कर जाना और दर्शनोपरांत उन्हीं सीढ़ियों पर कुछ देर बैठकर वादी की खूबसूरती को आंखों से पी जाना। बयाँ करते-करते थक जाना मगर चुप होने का नाम न लेना। मगर इन सबके बीच जब तन्हाई आकर डस जाए तो कुछ दर्द के साए उमड़ने लगते हैं और ना चाहते हुए भी ख़्वाबों-ख्यालों का ताना-बाना कुछ इस तरह सामने आता है

dard bhari kavita
ऐ हवा कभी तो मेरे दर से गुजर,
देख कितनी महकी यादें संभाली हैं मैंने,
संग तेरे कर जाने को,
हवा हो जाने को।

ऐ बहार कभी तो इधर भी रुख कर,
देख कई गुलाब मैंने भी रखे थे कभी,
किताबों में मुरझाने को,
पत्ता-पत्ता हो जाने को।

ऐ चाँद थोड़ी चाँदनी की इनायत कर,
कई छाले मैंने भी सजा कर रखे हैं,
बेजान बदन तड़पाने को,
रूह का दर्द छिपाने को।

ऐ चिराग घर में कुछ तो रोशनी कर,
कई बार आशियाँ जलाया है मैंने,
उजाला पास बुलाने को,
अँधेरा दूर भगाने को।

ऐ शाम ना जा, ज़रा कुछ देर ठहर,
अक्सर रात को पाया है मैंने,
तन्हाई मेरी मिटाने को,
दोस्त कोई कहलाने को।


47 टिप्पणियाँ
Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सुन्दर!

निर्मला कपिला ने कहा…

ऐ चाँद थोड़ी चाँदनी की इनायत कर,
कई छाले मैंने भी सजा कर रखे हैं,
बेजान बदन तड़पाने को,
रूह का दर्द छिपाने को।
बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति है शुभकामनायें

Einstein ने कहा…

ऐ शाम ना जा, ज़रा कुछ देर ठहर,
अक्सर रात को पाया है मैंने,
तन्हाई मेरी मिटाने को,
दोस्त कोई कहलाने को।

बेहतरीन रही ये आपकी पेश-कश...|

-vAZz- ने कहा…

Mind blowing bro .... Ultimate creation.. mandir jane ka achha asar ho gya ...

Anand ने कहा…

अति उत्तम!

शरद कोकास ने कहा…

हवा बहार चान्द चिराग और शाम से यह अच्छी दरख्वास्त है ।

CS Devendra K Sharma ने कहा…

utkrishta kavita...........

Aryan ने कहा…

bahut khub mere dost......

prem ने कहा…

nice

renuka ने कहा…

kya kabhi chukar dekha hai
subah ki aadhkhuli palko ko
sharm se lal hotho ko
bhige uljhe balo ko
kya kabhi chukar dekha hai..........

sakuchakar larajti aankho ko
palang par padi salvato ko
or bhige mausam ki khushboo ko
agar nahi
to
kabhi dekhna tab shayad tumhe pata chalega k
pyar kitna khoobsurat hota hai........

renuka ने कहा…

kya kabhi chukar dekha hai
subah ki aadhkhuli palko ko
sharm se lal hotho ko
bhige uljhe balo ko
kya kabhi chukar dekha hai..........

sakuchakar larajti aankho ko
palang par padi salvato ko
or bhige mausam ki khushboo ko
agar nahi
to
kabhi dekhna tab shayad tumhe pata chalega k
pyar kitna khoobsurat hota hai........

raj ने कहा…

Aap renuka ji sahi hai..pyaar se badhkar kuch nahi..par aapka najariya galat hai

raj ने कहा…

Aap renuka ji sahi hai..pyaar se badhkar kuch nahi..par aapka najariya galat hai

raj ने कहा…

Aap renuka ji sahi hai..pyaar se badhkar kuch nahi..par aapka najariya galat hai

shekh@cam ने कहा…

न जाने ये कैसी उलझन है,
न जाने ये कैसी कश्मकश है,
न जाने कौन सा ये गम है,
जिसके सामने हजारो खुशियाँ फीकी पड़ जा रही है।
जवाब शायद मैं जनता हूँ।
पर फिर भी नजाने क्यों,
मै अपने आप से इतने सवाल कर रहा हूँ।
ये तेरी कमी का एहसास है, जो बेचैनी बन कर मेरे सिने में उतरती जा रही है।
सब तो है मेरे पास !
पर फिर भी क्यों मै अपने आपको इतना तनहा महसूस कर रहा हूँ।
आज चलते चलते मेरे कदम उसी बताशे के ठेले पर जा रुके।
वो टिक्की और बताशे की भीनी सी खुशबू में छिपी तेरी याद ने मुझे बाँध सा दिया था।
जब बतासे वाले ने पत्तल मेरी ओंर बढाया,
तो उस कोरे पत्तल में तेरी याद को जिन्दा पाया।
मन में बस यही ख़याल आया,
अगर तुम साथ होती तो उस पत्तल को अपनी उँगलियों से पोंछ कर मुझे देती।
अगर तुम साथ होती तो कहती की, 'भईया बताशे में प्याज लगा देना'।
अगर तुम साथ होती तो कहती की , 'अरे भईया मटर थोडा कम डालो'।
इन्ही यादो में ही खोया था कि अचानक खांसी आ गई,
अनायास आई उस खांसी ने भी तेरी कमी का एहसास करा दिया ।
अगर तुम होती तो अपने हाथो से मेरी पीठ को सहलाने लगती ।
गले में चुभती उस खांसी कि तरह ये अकेला पन भी मेरी जिन्दगी में चुभ सा रहा था।
आँखों में तेरी याद आंसू बन कर छलक उठh।
उन बताशो कि तरह मेरी जिन्दगी भी बेस्वाद सी लगने लगी है,
जिसमे कभी तेरे होने का स्वाद छुपा होता था।

बेनामी ने कहा…

aisi hi kisi kavita ko padne ka man tha, and i got d same. Thank you

Amit Kumar ने कहा…

क्या शब्द है वाह जी वाह

Bhawana Gupta ने कहा…

very nice hawa i like it and
see my blog arthkiduniya.blogspot.in

Bhawana Gupta ने कहा…

very nice hawa i like it

Bhawana Gupta ने कहा…

very nice

megha ने कहा…

sapne tut kr bikhre hai meri raho me
jisko maine chaha khuda se jyada
usne mughko chhoda un raho me
jaha bitaye the kuch lamhe sath mil ke
kha ja tu ab aajad hai
pr kya ek bar bhi na samgha mughe
ki maine chaha hai sirf usko hi chaha hai
uske bina maut hi akxi hai
bina kisi sikwa kisi shikayat ke

बेनामी ने कहा…

ye sab bakwas hota hai pyaar nam ki koi chiz nhi hoti

बेनामी ने कहा…

ஏய், என் விகிதங்கள் சில நேரங்களில் காற்று மூலம்,
நான், Mahki நினைவுகள் கருதப்படுகிறது எப்படி பார்க்க
உம்மை கொண்டு செல்ல;
காற்று நாம்.

AI கூட, சில நேரங்களில் இங்கு வெளியே நிற்க
நான், இதுவரை பல ரோஜாக்கள் பார்த்துக்கொண்டு இருந்தேன்
புத்தகங்களில் கவிழ்ந்துவிடும் என்று,
இலை - செல்ல இலை.

மனதார நிலவு கொஞ்சம் மூன்லைட்,
நான் தண்டிக்கப்பட பல கட்டிகள், உள்ளன
உயிரற்ற உடல், சித்திரவதைக்கு
ஆத்மாவின் வலி மறைக்க.

ஒரு விளக்கு விளக்குகள் போது வீட்டில்;
நான் பல முறை எரித்தனர் ஆசியா ँ,
, அழைப்பு ஒளிர
இருட்டில் எடுக்கலாம்.

ஏ வலது சென்று மாலை, வெறும், ஒரு வரை காத்திருக்கவும்
நான், இரவில் அடிக்கடி கிடைத்துவிட்டது
என் நீக்கங்கள் தனிமை,
யாரோ ஒரு நண்பர் என்று.

kumar ने कहा…

Jaise hi milee piyaa se meri najar,
unka anmol prem mere dil mein basaa.
Ek ajab si kashish hai unse najdikiyon mein,
aur chhaa gayaa mere man par unke pyaar ka kahkashaa.
Jaise hi unhone meri taraf haath badhaayaa,
lagaa ki saagar nadee ki lahron mein ho basaa.
Jaise hi unhone mere tan ko chhuaa,
man par chhaa gayaa unke pyaar ka nashaa.
Jaise hi huaa aalingan mere piyaa se,
Madhosh ho gayee pavan aur rimjhim saawan barsaa.
Mera aur unkaa adbhut prem hameshaa banaa rahe,
hamaare beech ka ye pavitr bandhan hamesha phaltaa rahe.
Hai meri rab se yahi duaa ki hameshaa khushiyon se bharaa rahe hamaaraa sansaar,
jo hain pyaar ke moti se banaa.
Main to rangee hoon aapke pyaar ke rang mein,
aur hameshaa yun hi aapke saath rahoongee.
Kyonki mere man par chhaayaa hai ,
aapke pyaar ka anokhaa nashaa.

kumar ने कहा…

Jaise hi milee piyaa se meri najar,
unka anmol prem mere dil mein basaa.
Ek ajab si kashish hai unse najdikiyon mein,
aur chhaa gayaa mere man par unke pyaar ka kahkashaa.
Jaise hi unhone meri taraf haath badhaayaa,
lagaa ki saagar nadee ki lahron mein ho basaa.
Jaise hi unhone mere tan ko chhuaa,
man par chhaa gayaa unke pyaar ka nashaa.
Jaise hi huaa aalingan mere piyaa se,
Madhosh ho gayee pavan aur rimjhim saawan barsaa.
Mera aur unkaa adbhut prem hameshaa banaa rahe,
hamaare beech ka ye pavitr bandhan hamesha phaltaa rahe.
Hai meri rab se yahi duaa ki hameshaa khushiyon se bharaa rahe hamaaraa sansaar,
jo hain pyaar ke moti se banaa.
Main to rangee hoon aapke pyaar ke rang mein,
aur hameshaa yun hi aapke saath rahoongee.
Kyonki mere man par chhaayaa hai ,
aapke pyaar ka anokhaa nashaa.

mamta mishra ने कहा…

Voh neendo main b aane lage haiBan ke meetha dard voh satane lagehaiKahfa hum the aur rusva b humi hueVoh hume chod doosro ka manane lage haiChot dil pe lagti hai to dard b hota haiUnko yeh samzane main hume zamane lageHum unse kabhi b kuch keh na sakeUnko hamare yeh sirf Bahane lageChar din ki dosti thi aur Judai umar bhar kiAaj bi yakin nahi hai paar khud ko yakin dilane lageJuda ho ke voh kush the kisi aur ke saath toHum bi bhut khush hai yeh saab ko dikhane lageVoh juda ho ke b meetha dard de rehe haiDoor reh reh kar fir se pass aane lage haiFir se voh kyon yaad aah rhehe hai ..Jin ko bhulane main hume zamane lage hai…

Vikas Shukla ने कहा…

Muhabbat Cheez aesi hai
Kabi hoti hai apnon si.
Kabi hoti hai sapnon si.
Kabi anjaan raahon si.
Kabi gumnaam naamon si.
Muhabbat cheez aesi hai.
Kabi hoti hai phoolon si.
Kabi bachhpan ke jhoolon si.
Kabi bay-ikhtiari mein.
Kabi pakkay usoolon si.
Muhabbat tu muhabbat hai.
Muhabbat ik sadaqat hai.
Muhabbat ik ibadat hai.
Muhabbat cheez aesi hai.
dukhon mein rol deti hai,
dard unmol deti hai,
Zehar bhi ghol deti hai.
Muhabbat cheez aesi hai...

Vikas Shukla ने कहा…

Kisi Din Teri Nazro Se Dur Ho Jayenge Hum
Dur Fizaon Me Kahi Kho Jayenge Hum
Meri Yaadon Se Lipat Ke Rone Aaoge Tum
Jab Zameen Ko Odh Ke So Jayenge Hum

Vikas Shukla ने कहा…

Jo aansu dil me girte h wo ankho me nahi rehte
Bahut se harf aise hain jo lafzo mein nahi rehte
Kitabo mein likhe jate hai dunya bhar ke afsane
Magar jin mein hakikat ho kitabo me nahi rehte

नगेन्द्र कुमार ने कहा…

बहुत सुन्दर !!, बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति है शुभकामनायें !!!

बेनामी ने कहा…

bahut sandar poat he

बेनामी ने कहा…

bhut khub

atul lahoti ने कहा…

कुछ जीत लिखूँ या हार लिखूँ..
या दिल का सारा प्यार लिखूँ..

कुछ अपनो के जज्बात लिखूँ या सपनो की सौगात लिखूँ..
मै खिलता सूरज आज लिखूँ या चेहरा चाँद गुलाब लिखूँ..

वो डूबते सूरज को देखूँ या उगते फूल की सांस लिखूँ..
वो पल मे बीते साल लिखूँ या सदियो लम्बी रात लिखूँ..

सागर सा गहरा हो जाऊं या अम्बर का विस्तार लिखूँ..
मै तुमको अपने पास लिखूँ या दूरी का एहसास लिखूँ..

वो पहली -पहली प्यास लिखूँ या निश्छल पहला प्यार लिखूँ..
सावन की बारिश मेँ भीगूँ या मैं आंखों की बरसात लिखूँ..

कुछ जीत लिखूँ या हार लिखूँ..
या दिल का सारा प्यार लिखूँ..

# अतुल कुमार लाहोटी #

GathaEditor Onlinegatha ने कहा…

Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
Publish Online Book and print on Demand| publish your ebook

Rishabh Raj Singh ने कहा…

Wah wah..

vikas yadav ने कहा…

kya kahu yah kya hai
kavita hai ya muktak shayari hai
mai adhoora ak kavi hu
yah adhoori dayari hai

shubham sharma ने कहा…

"ऐ चिराग घर में कुछ तो रोशनी कर,
कई बार आशियाँ जलाया है मैंने,
उजाला पास बुलाने को,
अँधेरा दूर भगाने को।"
प्रशांत जी आपने यह कविता बेहद उम्दा व मन के दरमियाँ होकर लिखी है.....आपको बधाई....आपने इस कविता में प्रकृति जैसे हवा, बहार, चाँद, चिराग एवं शाम का वर्णन अप्रतिम तरीके से किया है....ऐसी ही एक रचना हवा आप शब्दनगरी पर भी पढ़ सकतें हैं व अपनी लेखनी कि इस मंच पर बयाँ कर सकतें हैं.....

Vijaya Lakshmi Buddupu ने कहा…

Dard diye bhi tho tune eshe
Palko pe pani
na girthe hai
Na rukthe hai
Na shikva thujh se
Bas.......
shikayath hai mujh se

Ki dil deye bhi tho kise..


Bejan pathr bhi pigh le pyar se meri
Na samjhe dil ki pathar hai vahi

बेनामी ने कहा…

कोई बेहद दर्दीली कविता /शायरी/ गीत लिख फे जिसमे दोनों पक्ष एक दुसरे के प्रेम में बंधे हो फिर भी दोनों मजबूर हो एक होने पर

App Development Company India ने कहा…

very informative post for me as I am always looking for new content that can help me and my knowledge grow better.

amit bhargava ने कहा…

ATMA SE LIKHI GAYI

बेनामी ने कहा…

(1)Koi to raah hoge jisme unnse mulaqut hoge….
Koi to bt hote jisme ek rat hoti ….
Andhari se ho gai jindgi is kali rat me….
Kabhi to is kali rat ke moot hoge….

(2)waajah kuch bhi ho lakin errada ek hoga…
Wqat koi bhi ho lakin halat ek he hoga ….
Tarika jeene ka ho ya marne ka…..
Khwab ka spna ek sath sach hoga…

(3)Na rote uske jindgi ek pal ke liya….
Kahi kese raah me agar mulaqut hui hoti…
Agar hamme bhi khabar hoti unke mulaqut ke…
kasam ye jindagi unke name kr de hoti…

(4)Ye dasta the mere dard bhari kahhane ke…
Kahi is kahaane me ek mulaqut hoti….
na khojta tumko is kavita ke pahele me…
agar ham 2 ke bich ek takrar hoti….



WRITER OF
GAURAV RAJPUT
CONTACTED:8821944904

Praveen Dan ने कहा…

very nice

बेनामी ने कहा…

dil ko chhu liya is kavita ne

बेनामी ने कहा…

Kuchh chahiye kya de paaoge?
Varsho se akela hu;kya ye akelapan dur kar paoge
Dekh kar tujhe tu apna sa laga..
Sadiyo ka safar 1 pal sa laga.
Kala vastr or kala kajal..
Chakati adaa or chhankti payal.
Mujhe wo chhanak sunna h..kya suna paoge.
Kuchh chahiye .kya de paoge.?
Chhupe nazro me tu aisa basa.kuchh nya sa tha,jo tujhme dikha.
Fir bun'ne lga mai khwab tera..ho-sa gya khwabo me dera mera.
Mujhe us dere me basar chahiye,kya dila paoge?
Kuchh chahiye kya de paaoge?
Tu krne lga pahra-sa mujhme,mai jaagta rha raato ko tujhme;
Mai pareshaa-sa tha apne zazbato se.
Tum anjaan-se mere halaato se.
Kya Mere in halato me jujh paoge?
Kuchh chahiye,,kya de paaoge?
Fir hui 1 raham rab ki,2 tuk baate hamari or tere nakhre gazab ki.
Fir samjhne lga mai,tujhe is-kadar
Jaise baadal nabh me karte gadar.
Kya un baadlo ki tarah mujhpe baras paoge?
Kuchh chahiye kya de paoge?
Pehchan iss-kadar badh gyi,tu salamat rahe aisi junoon-si chadh gyi.
Har waqt mai tere paas bhagne lga or duaao me tujhe maangne lga.
Garr qabul ho meri dua,to kya meri zindgi me aapaogw?
Kuchh chahiye,kya de paoge?
Fir hogi meri ishq e numaais.na rhegi baki koi aazmais.
Pyar se hm 2no ki milengi nazar,dil kahega "mai tujhme or tu mujhme thahar.
Sach kaho,"kya us pal thahar paoge?
Kuchh chahiye .kya de paoge?
Pyar hamari bahakti rahegi.ikk duze me gujarti rahegi.
Hame hoga ekk-duje pe aisi vishwas ..ki adal-badal kr liya krenge apni saans ..
Fir se kaho.kya mere dum ghutne se pahle meri saanse ban paogi?

Bus kuchh chahiye :;kyaa de paaogi???
By:-abhinandan vashistha.
For-my love (miss_consus)

Learn Digital Marketing ने कहा…

I certainly agree to some points that you have discussed on this post. I appreciate that you have shared some reliable tips on this review.

kumar abhinandan ने कहा…

Thanks ....

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियाँ एवं विचार मेरी सोच को एक नया आयाम, एक नयी दिशा प्रदान करती हैं; इसलिए कृपया अपनी टिप्पणियाँ ज़रूर दें और मुझे अपने बहुमूल्य विचारों से अवगत होने का मौका दें. टिप्पणियाँ समीक्षात्मक हों तो और भी बेहतर.......


टिप्पणी प्रकाशन में कोई परेशानी है तो यहां क्लिक करें.......