उद्घोषणा

गुरुवार, 1 जनवरी 2009

इस ब्लॉग में प्रस्तुत सभी आलेख लेखक (ब्लॉगर) के व्यक्तिगत विचारों पर आधारित हैं। इनका उद्देश्य किसी भी धर्म, सम्प्रदाय, जाति एवं क्षेत्र इत्यादि को बढ़ावा देना नहीं है और न ही इनमें से किसी की अवमानना करना परन्तु लेखक (ब्लॉगर) इनमें से किसी पर भी अपनी निष्पक्ष एवं बेबाक़ राय प्रस्तुत करने के लिए पूर्णतया स्वतंत्र है। साथ ही सभी टिप्पणियाँ सम्बंधित लेखकों की अपनी अवधारणों पर आधारित हैं तथा वे भी किसी भी आलेख पर अपनी टिप्पणी देने के लिए पूर्णतया स्वतंत्र हैं।

श्रेणी: ,

1 टिप्पणियाँ
comments ने कहा…

dusro ke liye ab mrta nhi hai koi,kh dete hai magr krta nhi hai koi,ktl mndir me bhi msjad me bhi kr dete hai,alla,prbhu bhgwan se drta nhi hai koi,jhuth ka pkra hai hr koi ab damn,such ki raho pe chlta hai nhi hai koi,garoo ki bat kya apno se bhi ab to kashif,bin mtlb ke yha milta nhi hai koi
jyoti rai

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियाँ एवं विचार मेरी सोच को एक नया आयाम, एक नयी दिशा प्रदान करती हैं; इसलिए कृपया अपनी टिप्पणियाँ ज़रूर दें और मुझे अपने बहुमूल्य विचारों से अवगत होने का मौका दें. टिप्पणियाँ समीक्षात्मक हों तो और भी बेहतर.......


टिप्पणी प्रकाशन में कोई परेशानी है तो यहां क्लिक करें.......